businesskhaskhabar.com

Business News

Home >> Business

बीएसएनएल के सीएमडी का अतिरिक्त प्रभार संभालेंगे एमटीएनएल चेयरमैन पुरवार

Source : business.khaskhabar.com | July 01, 2019 | businesskhaskhabar.com Business News Rss Feeds
 mtnl chairman purwar to assume additional charge as bsnl cmd on monday 391041नई दिल्ली। सरकार ने एमटीएनएल के चेयरमैन व प्रबंध निदेशक (सीएमडी) पी. के. पुरवार को तीन महीने की अवधि के लिए भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) का सीएमडी नियुक्त करने का फैसला किया है।

  यह नियुक्ति कैबिनेट की नियुक्ति समिति (एसीसी) की मंजूरी के बाद एक जुलाई से प्रभावी होगी।

दूरसंचार विभाग (डीओटी) के एक आदेश में कहा गया है, “30-06-2019 को बीएसएनएल सीएमडी अनुपम श्रीवास्तव की सेवानिवृत्ति के बाद एक अंतरिम व्यवस्था के तहत और एसीसी की मंजूरी के अधीन, बीएसएनएल सीएमडी का अतिरिक्त प्रभार एमटीएनएल के सीएमडी पी. के. पुरवार को सौंपा जा रहा है। यह 01-07-2019 से तीन महीने के लिए अगले सीएमडी की नियुक्ति तक या आगामी आदेश तक प्रभावी रहेगा।”

पुरवार ने आईएएनएस से खास मुलाकात में कहा, “मैं सोमवार से चार्ज ले रहा हूं। जब तक मैं चार्ज न ले लूं और सभी तथ्यों के साथ मुद्दों को समझ न लूं, तब तक मैं इस पर टिप्पणी नहीं करना चाहूंगा कि मेरी प्राथमिकता क्या होगी।”

सूत्रों ने हालांकि कहा कि पुरवार की कोशिश दोनों संगठनों, बीएसएनएल और एमटीएनएल को दक्षता के साथ परिचालन में बनाए रखने की होगी।

दोनों ही संगठनों में कई दिक्कतें हैं और बीएसएनएल की समस्याएं अब जगजाहिर हो चुकी हैं जो गंभीर आर्थिक संकट का सामना कर रहा है। जिस बात का सर्वाधिक महत्व है, वह यह है कि इन नेटवर्क को परिचालन में बनाए रखा जाए, राजस्व पैदा किया जाए और नेटवर्क को बनाया जाए ताकि जिस क्षण सरकार फोरजी स्पेक्ट्रम को देने की अवस्था में आए, सेवाएं तीव्र प्राथमिकता से दी जा सकें।

सूत्रों ने कहा कि माना जा रहा है कि पुरवार डीओटी के निर्देशों का पालन करेंगे। अतिरिक्त कार्यभार संभालने के दौरान उन्हें कोई अतिरिक्त भुगतान नहीं होगा। पुरवार का चयन इस साल जनवरी में पब्लिक एंटरप्राइज सेलेक्शन बोर्ड (पीईएसबी) के द्वारा हुआ था।  (आईएएनएस)

[@ इस ऑफिस में अपने आप चलती हैं कुर्सियां! ]


[@ सचिन तेंदुलकर के साथ तुलना पर ऐसा बोले उभरते स्टार पृथ्वी शॉ]


[@ कछुआ से लाए घर में ढेर सारी सुख और समृद्धि]